10वी और 12वी में फ़ैल Students के लिए “NIOS ODE” बनी आश की किरण

NIOS ODE: यूँ तो एक साल में 12 महीने होते हैं, मगर एक विद्यार्थी के दृष्टिकोण से देखा जाए तो मई-जून महीने का अपना अलग ही महत्व रहता है| वजह, पुरे साल के मेहनत का रिजल्ट जो आने वाला होता है|  Project, Assignments एवं अन्य शैक्षणिक कार्यक्रम में लिप्त रहने के बाद जब रिजल्ट की बारीआती है तो थोड़ी बहुत टेंशन तो हर किसी को होती है| हो भी क्यूँ न, रिपोर्ट कार्ड में छपी नतीजों के बलबूतों पर ही हम आगे अपने भविष्य के सपने गढ़ते हैं| 10वी एवं 12वी के नतीजे यूँ तो हमारे जीवन का एक अहम् आधार होता है मगर अब जब नतीजे असंतोषजनक रहे तो आगे क्या? प्रस्तुत आर्टिकल के माध्यम से आज हम आपको NIOS on Demand Examination के बारे में बताने वाले हैं जिसके मदद से आप बिना समय गवाएं 10 वी अथवा 12वी का एग्जाम पास कर आगे अपने भविष्य की बेहतर तैयारी कर सकते हैं|

NIOS ODE

NIOS ODE

आज बढती आबादी एवं सीमित संसाधनों के बीच 10वी एवं 12वी के नतीजे आपके जीवन में एक अहम् रोल अदा करती है| ऐसे में एग्जाम को अच्छे नंबर से पास कर आगे अच्छे कॉलेज में दाखिला लेना ही हमारी पहली प्राथिमिकता रह जाती है| लेकिन उन बच्चों के बारे में भी सोचा जाए जो किस कारणवस एग्जाम में पास नहीं हो पाते| यहाँ एक सवाल जरुर उठता है कि क्या मात्र एक एग्जाम में फ़ैल होने से ही उनको असफल करार दे उनसे सारी आशाएं तोड़ लेनी चाहिए? अभी हाल ही में पब्लिश बिहार बोर्ड के 12वी के नतीजों पर ध्यान दे तो ऐसे स्टूडेंट्स की कोई कमी नहीं जो 12वी में पास नहीं हो पाए| ऐसे बच्चों के लिए NIOS On Demand Examination एक वरदान साबित हो सकती है| आइये डालते है एक नजर इस स्पेशल रिपोर्ट पर|


NIOS On Demand Examination


NIOS ON Demand Examination की नींव National Institute of Open Schooling (NIOS) द्वारा 2003 में रखी गयी थी| वजह; ओपन एवं डिस्टेंस लर्निंग को रेगुलर क्लास रूम के समकक्ष खड़ा कर बोर्ड के परीक्षा को टाइम फ्रेम से आज़ाद करवाना| पहले प्रयोग के रूप में NIOS ने 10वी बोर्ड में फ़ैल बच्चों के लिए On-Demand Examination (ODE) की शुरुवात की थी ताकि मार्क्स के अभाव में उन्हें कीमती वक़्त न गवाना परे|

NIOS On Demand Helpline

NIOS On Demand Helpline

On-Demand Examination के सफलता के बाद साल 2007 में बोर्ड ने Sr.Secondary लेवल में भी इसकी शुरुवात कर दी| आज NIOS On Demand Examination बोर्ड में फ़ैल हुए स्टूडेंट्स के लिए एक जाना पहचाना नाम बन चुकी है|

Advantages of NIOS ODE (On-Demand Examination)

हालाँकि अब तक तो यह समझ में आ ही चुकी होगी कि NIOS non Demand Examination बड़ी काम की चीज है मगर फिर भी हमारे दिल में कई सवाल उठने लाजमी है| जैसे की क्या इस रिजल्ट के आधार पर हम आगे की पढाई जारी रख सकते है अथवा क्या On Demand Exam पास करना वाकई में आसान रहता होगा? आइये आगे बढ़ने से पहले एक नजर डालते है NIOS on Demand Examination  से जुड़े कुछ फायदों पर.

  • बोर्ड एग्जाम से परे On Demand Examination में समय की कोई पाबन्दी नहीं होती| अब स्टूडेंट जब चाहे, जहाँ चाहे अपने सुविधा एवं तैयारी के आधार पर 10वी अथवा 12वी पास कर बिना समय गवाएं आगे की पढाई जारी रख सकता है|
  • 10वी एवं 12वी में आप चाहे तो उपलब्ध पेपर्स में से कोई भी पसंदीदा सब्जेक्ट (जिसमे आप बेहतर हो) चुन कर एग्जाम दे सकते हैं| इस तरह न तो एग्जाम में फ़ैल होने का डर रह जाता है और न ही डिप्रेशन अथवा फेलियर वाली फीलिंग डेवेलोप हो पाती है|
  • NIOS On Demand Examination की एक सबसे बड़ी खूबी है समय! जी हाँ ऐसे मौके में जब आपके पास समय का काफी ज्यादा अभाव हो और बोर्ड के मार्क्स के बेसिस पर आपका कही दाखिला नहीं हो पा रहा हो तो ऐसे में ODE एक बेहतर विकल्प हो सकती है|

Subject Choice

अमूमन बोर्ड में फ़ैल हो जाने से कम्पार्टमेंट अथवा Re-Evaluation में 5/6 महीने का वक़्त लग जाता था परन्तु NIOS On Demand Examination के आ जाने से अब विद्यार्थी जब चाहे तब अपने समय एवं तैयारी के हिसाब से पेपर दे बोर्ड पास कर सकते हैं वो भी कम लागत एवं मेहनत के| वर्तमान में On Demand Examination NIOS के हेडक्वार्टर (NOIDA) एवं उसके समस्त Regional Centres/Sub-Centres में निम्नलिखित विषयों पर ली जाती हैं|

Secondary (10th) Senior Secondary (12th)
Hindi (201), English (202), Sanskrit (209), Mathematics (211), Science & Technology (212), Social Science (213), Economics 214), Business studies (215), Home Science (216), Data Entry Operations (229), Psychology (222), Indian Culture & Heritage (223), Painting (225).

 

Hindi (301), English (302), Sanskrit (309), Mathematics (311), Physics (312), Chemistry (313), Biology (314), History (315), Geography (316), Political Sc. (317), Economics (318), Business Studies (319), Accountancy (320), Home Science (321), Psychology (328), Sociology (331), Painting (332), Environmental Science (333), Data entry Operations (336), Introduction to Law (338).

Medium of Question Paper

NIOS ON DEMAND EXAMINATION पेपर हिंदी एवं इंग्लिश दोनों माध्यम से दी जा सकती है| और तो और आप चाहे तो अपने पेपर क्षेत्रीय भाषा में भी लिख सकते हैं मगर यहाँ यह ध्यान दे कि क्षेत्रीय भाषी स्टूडेंट्स को केवल उत्तर रीजनल लैंग्वेज में दे सकते है, क्वेश्चन पेपर या तो हिंदी अथवा इंग्लिश में ही दी जायेगी|

इसे भी पढ़े: ITI के बाद डिप्लोमा का बढ़ता क्रेज| एक छोटी सी रिपोर्ट.

इसे पढ़े: लेना चाहते है इंजीनियरिंग तो ध्यान दे यह 5 जरुरी बातें.

इसे भी पढ़े: दसवी के बाद यह 7 ITI कोर्सेज देंगी आपको नई पहचान.

NIOS ने अपने डेटाबेस में हर सब्जेक्ट चॉइस के लिए एक ब्लूप्रिंट तैयार कर रखी है| जब भी कोई स्टूडेंट On Demand Exam के लिए आवेदन करता/करती है तो कंप्यूटर समान डिफिकल्टी लेवल के क्वेश्चन अपने ब्लूप्रिंट से ही तैयार कर लेती है| ये नई पहल न सिर्फ क्वेश्चन पेपर जनरेशन में लगने वाले समय को बचाता है बल्कि इससे आंसर शीट के चेकिंग में भी काफी सहयोग मिल पाती हैं|

Result & Certification

आइये डालते हैं एक नजर NIOS On Demand Examination से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं पर|

  • NIOS ODE एग्जाम में नामांकन हेतु स्टूडेंट्स को पहले www.nios.ac.in में जाकर रजिस्ट्रेशन करना होता है| ध्यान दे हर महीने के आखिरे सप्ताह में NIOS, ODE का आयोजन करवाती है|
  • स्टूडेंट्स हर महीने के मंगलवार, बुधवार एवं गुरुवार (रीजनल सेंटर) तथा मंगलवार, बुधवार, गुरुवार एवं शुक्रवार (नॉएडा सेंटर) से NIOS ODE एग्जाम दे सकते हैं|
  • ध्यान दे, एग्जाम का रिजल्ट हर महीने के आखिरी सप्ताह में NIOS के ऑफिसियल वेबसाइट में पब्लिश की जाएगी|
  • मार्कशीट एवं एग्जाम से सम्बंधित अन्य जरुरी दस्तावेज केवल पास कैंडिडेट को ही दी जाएगी| रिजल्ट हेतु आपको अपनी संबधित रीजनल सेंटर से संपर्क करना पड़ेगा|
  • अपनी मार्कशीट मंगवाने हेतु आप चाहे तो NIOS को रिक्वेस्ट भी भेज सकते हैं| इसके लिए आपको एक एप्लीकेशन एवं इन्टरनेट प्रिंटआउट के साथ  Rs.100/-  की बैंक ड्राफ्ट (in favour of Secretary, NIOS, payable at NOIDA to Section Officer ( M&M unit), National Institute of Open Schooling A-24-25, Institutional Area, Sector-62, NOIDA, U.P. 201309) पर भेजना पड़ेगा|
  • मार्क शीट्स और प्रमाणन के उद्देश्य के लिए, मई से अक्टूबर तक आने वाले सभी उम्मीदवारों को उस वर्ष अप्रैल परीक्षा के तहत माना जाएगा। और नवंबर से अप्रैल तक आने वाले सभी उम्मीदवारों को अक्टूबर परीक्षा के पूर्व के तहत विचार किया जाएगा।
  • NIOS On Demand Examination के नियमों के अनुसार “पुन: जांच” या “पुन: मूल्यांकन” की अनुमति भी है। उम्मीदवार पुनः मूल्यांकन हेतु एनआईओएस वेब साइट पर उपलब्ध निर्धारित प्रोफार्मा पर अपेक्षित फीस के साथ आवेदन कर सकते हैं| 

Summary

Venue for theory paper At all the Regional Centres and at the HQ at NOIDA
Examination Days for theory paper Tuesday, Wednesday & Thursday (For Regional Centres) and Tuesday, Wednesday, Thursday & Friday for HQ NOIDA 2.00 pm to 5.00 pm
Venue for Practical Examination NIOS AI (study Centre) or at another reputed school already identified for the Practical Examination
Examination Days for Practical Every Friday/Saturday on weekly basis or as Announced on the day of the Theory Paper.
Result Declaration Every Month through NIOS website www.nios.ac.in for the ODE conducted during last month

NIOS ODE Helpline

NIOS on Demand Examination से जुडी अन्य किसी भी तरह के समस्या अथवा शिकायतों के समाधान हेतु आप चाहे तो NIOS ODE के Helpline नंबर से संपर्क कर सकते हैं|

Learner support Centre (LSC)

  • Phone: 18001809393(Toll-Free)
  • Email: LSC@nios.ac.in/odes@nios.ac.in

Best Of Luck..!!

Summary
Review Date
Reviewed Item
10वी और 12वी में फ़ैल Students के लिए "NIOS ODE" बनी आश की किरण
Author Rating
51star1star1star1star1star
Let us know if something is missing in the above article! waiting for your feedback in the comment box

Get Admission in Top Colleges Call: 09873308055 or Click Here

Get Direct Admission Call 09873308055 Click Here
Hello. Add your message here.