इंजीनियरिंग है पहली पसंद तो ध्यान दे ये 5 जरुरी बातें

बात है 2006 की जब बारहवीं के एग्जाम के बाद मैं घर पर यूँही बैठा अपने रिजल्ट का इंतज़ार कर रहा था| छोटे शहर में उचित संसाधनों एवं मार्गदर्शन के अभाव में बचपन में ही समाज ने दिमाग में एक बात बैठा दी थी कि “बारहवी में साइंस लेकर पढ़ा है तो इंजिनियर ही बनना हैं”| रिजल्ट के वक़्त अच्छे मार्क्स पाकर ख़ुशी तो हुई मगर साथ-साथ परेशानी भी थी कि बारहवी के बाद अब आगे क्या..?

एक ट्रेंड चला था हमारे वक़्त (जो आज भी बरकरार हैं) कि इंजीनियरिंग बिना कोचिंग के नहीं निकलने वाली| ऐसे में अपना बोरिया बिस्तर बाँध चल पड़ा पापा के साथ कोचिंग के गढ़ “कोटा” की ओर| कोचिंग ज्वाइन की और पूरा साल दोस्तों के साथ हस्ते-हस्ते कब बीत गया पता ही नहीं चला| तैयारी न के बराबर थी तो रिजल्ट क्या होने वाला था|

Goal

PC: webmotive

उचित मार्गदर्शन के अभाव में समय को ही अपना टीचर मान उसके अनुकूल चलता गया और 2012 में किसी तरह कंप्यूटर साइंस में अपनी डिग्री पूरी की| इन सालो में इंजीनियरिंग, लाइफ, करियर और देश दुनिया के बारे में काफी कुछ सीखने को मिला जिसे आज अपने युवा पीढ़ी के साथ सांझा करने का मन कर गया| यदि आप भी मेरे ही तरह बिना किसी खास रूचि के सिर्फ इसलिए इंजीनियरिंग करना चाहते हैं कि आपको किसी का अरमान पुरा करना हैं तो शायद अपने अनुभव के पिटारे से निकाली गयी मेरी ये  5 खास बातें आपकी बहुत काम आ जाये|


बारहवी के बाद अब आगे क्या…??


रिसर्च, रिसर्च और रिसर्च


जी हाँ, एक उम्दा करियर की नींव कहे जाने वाले इस पहलु को नजरअंदाज करने की भूल कतई न करे| सिर्फ इसलिए कि आपके मौसी के लड़के ने फलना कॉलेज से इंजीनियरिंग की है तो यह जरुरी नहीं कि आपके लिए भी वह रास्ता सही रहेगा| एक बात गाँठ बाँध ले की आप विशिष्ट है और यह भी हो सकता है कि शायद इंजीनियरिंग आपके लिए बनी ही न हो|

College Brand

PC: emotivebrand

कॉलेज, करियर एवं अपने भविष्य की बेहतर प्लानिंग करने में रिसर्च काफी काम आती हैं| यदि कोई कोर्सेज अथवा कॉलेज ज्वाइन करना चाहते हैं तो पहले उस संसथान के बारे में समस्त जानकारिया जुटाए| यह भी संभव है कि कॉलेज के भ्रामक विज्ञापन अथवा वेबसाइट काफी आकर्षक लगे मगर मेरा मानना है कि किसी भी संसथान को ज्वाइन करने से पहले एक बार वक़्त निकाल पर्सनली उस संसथान को जरुर विजिट करे|

खुद से करे सवाल


बचपन से ही सिमित करियर आप्शन एवं जॉब प्रोफाइल के वजह से हमारे मन में एक बात घर कर गयी है कि साइंस लेकर केवल इंजिनियर अथवा डॉक्टर ही बना जा सकता हैं| ऐसे में उन लोगो से मेरा यही कहना है कि जरा गूगल में रिसर्च करके देखले जनाब आपको 1-2 नहीं बल्कि 100 से ज्यादा करियर आप्शन मिल जायेंगे| ऐसे में केवल इंजीनियरिंग ही क्यूँ..?

सफलता पानी हैं तो आज ही सीखे ये 5 कंप्यूटर लैंग्वेज

कही ऐसा तो नहीं कि केवल अपने घरवालों अथवा सगे-सम्बन्धियों के दबाब में आपने यह राह चुन ली| दरअसल कमी हममे ही हैं, अक्सर हम अपने करियर अथवा सोच को ले अपने घरवालों से खुल के बात नहीं कर पाते जिसका नतीजा कभी-कभी काफी घातक शाबित हो सकता हैं|

 पैसा बाधक नहीं बन सकता


मैंने ऐसे हजारों मामले देखे हैं जिसमे लोग अपने पसंदीदा करियर से केवल इसलिए समझौता कर लेते हैं क्योंकि उनके पास पैसे की कमी होती हैं| गरीबी में अपने बेसिक जरूरतों से संघर्ष करते-करते कही न कही हम अपने हालात से समझौता कर लेते हैं| ऐसे में मेरा उन तमाम लोगो से यही कहना हैं कि यदि सच में आपके मन में अपने चाहत को पाने की भावना काफी तेज़ हैं तो पैसा कभी भी आपके रास्ते में रुकावट नहीं बन सकती|

Money Matters

PC: youth jamaica

आज भारत एवं प्रदेश सरकार ऐसे मेधावी बच्चों को पढने हेतु ढेरों स्कालरशिप योजनायें निकालते रहती है| जरुरत है तो बस जानकारी की| यदि आप अपने मेहनत एवं काबिलियत के प्रति 100% आस्वस्त हैं तो आप विभिन्न बैंको से लोन भी ले सकते हैं| कई यूनिवर्सिटीज मेधावी बच्चे को भाड़ी स्कालरशिप भी देती हैं जिससे की उनके करियर में पैसा कभी बाधक न बने|

जिम्मेदारियों को समझे


बचपन से हमारे माँ-बाप एवं चाहने वाले हमे सही-गलत का पाठ पढ़ाते रहते हैं मगर उस वक़्त हमे उनकी बाते थोड़ी आउटडेटिड् (Outdated) लगती हैं| हो सकता है कि जनरेशन गैप के वजह से हमारे बीच दूरियां बन जाये एवं हमें सही गलत का अंदाज़ न रहे| ऐसे में अपने घरवालों से खुल कर बात करे| बात केवल कुछ साल की कड़ी मेहनत से हैं| यदि 4-5 साल के कड़ी मेहनत के बाद आने वाल हर कल आपके सुर से सुर मिलाये तो क्यूँ न वक़्त रहते ही थोड़ी मेहनत करले|

Voice Over Artist बन दे अपने करियर को एक नयी उड़ान

अपने जिम्मेदारियों को समझे| खास कर के मिडिल क्लास फॅमिली से सम्बंधित मेरे सारे भाई-बहनों से यह निवेदन हैं कि अपने घरवालो के त्याग को सही रूप देने का एल अलग ही मजा हैं| नए माहौल में कुछ चीजे अनुकूल होगी तो कुछ आपके प्रतिकूल जो की आपको अपने पथ से विचलित कर सकती हैं| ऐसे में अपने जिम्मेदारियों का एहसास आपको मार्गदर्शित करती रहेगी|

पिक्चर अभी बाकी हैं


अभी एक रिपोर्ट पढ़ रहा था कि हर साल भारत में होने वाली खुदकुशी का एक बड़ा कारण करियर में मिली नाकामी होती हैं| एक ऐसा समाज जहा आपकी प्रतिभा 3 घंटे में दिए गए एक पेपर से निर्धारित हो वहाँ खुद को दुसरे से Compare करना तो लाजमी हैं परन्तु एक बात न भूले कि इन सब में कही आपका वजूद ही न मिट जाये| रिजल्ट अच्छे नहीं आये, एग्जाम में पास नहीं हो पाया, मनचाहा कॉलेज नहीं मिल पाया अथवा कोई भी वजह हो परन्तु एक बात तो तय है कि इन सब का आपके प्रतिभा से कोई लेना देना नहीं|

picture abhi baki hain

picture abhi baki hain

किताब उलट कर अथवा गूगल में सर्च करके देख ले आपको हजारों Example मिल जायेंगें जिन्होंने समाज को अपने गैर-परंपरागत तरीको से न सिर्फ चुनौती दी बल्कि अपनी जीत भी सुनिश्चित की| बुरे वक़्त से जूझ रहे मेरे तमाम भाई-बहनों से बड़े भाई होने के नाते मुझे बस इतना ही कहना हैं कि ” पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त,  क्या पता इंटरवल के बाद कहानी कोई नया मोड़ ले ले”

बारहवी के बाद  अब आगे क्या…? कॉमर्स करियर विशेषांक

बारहवी के बाद  अब आगे क्या…? आर्ट्स  करियर विशेषांक

इंजीनियरिंग मेडिकल के अलावा साइंस के ये 100+ करियर आप्शन देखना न भूले.

यदि आप भी करियर सम्बंधित किसी तरह के परेशानियों से जूझ रहे हैं तो हमसे संपर्क करना न भूले| याद रहे केवल उचित मार्गदर्शन से ही असंभव को संभव किया जा सकता हैं| आप अपनी उलझने हमें मेल भी कर सकते हैं| संपर्क करे mail@edufever.com par.

शुभाशीष

आपका अपना 

राकेश मंडल…

Summary
Review Date
Reviewed Item
इंजीनियरिंग है पहली पसंद तो जरुर ध्यान दे ये 5 बातें
Author Rating
51star1star1star1star1star

Rakesh Mandal

वक़्त आने दे बता देंगे ए आसमान.
हम अभी से क्या बताये क्या हमारे दिल में हैं|

विभिन्न परीक्षाओं के लिए कंप्यूटर अवेयरनेस हिंदी में पढ़ें Click Here
Hello. Add your message here.